तिरंगी

तिरंगी पुल की छाँव और सिग्नल की धूप खा कर ना जाने कब बच्ची से भरी पूरी लड़की हो गयी है . तंग कमीज़ में उसके बदन का छटाव, चीथड़े सी बदली में छुपे पूरे चाँद सा, जितना छिपता है उससे ज़्यादा दिखाई देता है. भीख माँगना अब उसके लिए एक खेल सा हो गया है. कमीज़ ठीक करते हुए कार की खिड़की के पास जा कर खड़ी होती है तो शीशा अपने आप नीचे उतरने लगता है. हर बार दो नयी घूरती आँखे उसके बदन का ऐसे मुआयना करती हैं जैसे नये किस्म की एटीएम मशीन में स्लॉट ढूँढ रही हों. साँप सा रेंगता एक हाथ अक्सर बाहर आता है और एक सिक्का तिरंगी के हाथ में थमा देता है. कभी कभी तो हाथ का अंगूठा उसकी हथेली पर निशान लगाने की कोशिश करता है. सिक्का हाथ में आते ही मतवाली सी तिरंगी अचानक छोटी बहन सा चेहरा बना लेती है और खिसक जाती है.
उसकी माँ- ना जाने पैदा करके बनी है या उठा कर- कहती है, ‘तू तकदीर वाली है रे तिरंगी, मैं बोलती हूँ तेरे को.’
उस दिन तिरंगी ने सिग्नल पर सबसे बड़ी गाड़ी को चुना और खिड़की के पास जाकर अपनी अदा दिखाई. शीशा उतरा. दो आँखें उसके उभारों पर लेज़र के फोकस सी टिक गयी. तिरंगी थोड़ी बेचैन हुई पर दाव बढ़ने के लालच में मूर्ति बनी रही. रेंगते हुए हाथ में सौ का नोट देख कर उसकी आँखे चमक गयी. दिनेश ने नोट उसके हाथ में रखते हुए हथेली ऐसे दबाई जैसे कोई अलिखित करार की चाह है. पूनम रियर व्यू में अपने पति का यह लंपट रूप देख कर बिलबिला गयी.
ज़ोर से चिल्लाई, ‘ ए लड़की..!’
तिरंगी ने सौ का नोट अपनी मुट्ठी में भींच लिया.
‘इधर आओ तो.. यह क्या चुड़ैल बन कर फिर रही हो.’ इतना कह कर उसने अपना बेशक़ीमती शॉल तिरंगी पर फेंक दिया.
दिनेश दंग रह गया. दस हज़ार का यह शॉल उसने पिछले हफ्ते पूनम को उसके जन्म दिन पर गिफ्ट दिया था. कार फ़र्राटे से निकल गयी. तिरंगी शॉल छाती पर थामे, सौ का नोट मुट्ठी में दबोचे हाँफती हुई माँ के पास आई. नोट माँ की गोद में डाला और शॉल लपेट कर मोरनी सी नाचने लगी. माँ अपनी अनुभवी आँखों से हवा को तौलती रही.
रात को डिन्नर पर दिनेश ने हिम्मत करके सन्नाटा तोड़ना चाहा. ‘ सौ- पचास रुपये की बात अलग है पूनम, तुम्हे पता है पूनम उस शॉल की क्या कीमत थी? मैने तुम्हे गिफ्ट दिया था वो शॉल!’
पूनम ने अपनी आँखे दिनेश की आँखों में गाड़ कर कहा,’ मिसटर बंसल शायद तुम्हें यह नही पता कि उस शॉल की कीमत एक लड़की की इज़्ज़त से बहुत कम थी. और हाँ गिफ्ट….तुमसे..! जिसकी नज़र में एक लड़की के उभरे हुए अंगों की कीमत केवल सौ पचास रुपये है.’
वह उठ कर अपने कमरे में चली गयी. दिनेश का मुँह खुला रह गया और उसके हाथ का नीवाला उसकी सफेद शर्ट पर गिर गया.
तिरंगी रात भर शॉल से लिपटी रही और बार बार उसे सॉफ करती रही. दूसरे दिन शॉल ओढ़े ही सिग्नल पर भीख माँगने गयी.
ना किसी कार शीशा नीचे उतरा और ना ही कोई रेंगता हुआ हाथ उसकी ओर बढ़ा. रुआंसी होकर शाम को लौटी और शॉल उतार कर अपनी माँ पर फेंक दिया.
‘ सब लोग मेरा शॉल देख कर जलते हैं. मुझे नही ओढना यह.’
माँ समझ गयी. शॉल को अपनी पोटली में ठूँसते हुए बोली,’ पता नही किस अभागिन का शॉल है रे. तू तो तकदीर वाली है ऐसे ही अच्छी लगती है री. अगला महीना तो तेरा ही है रे, तुझे अबके मैं दो बंड्ल तिरंगे ला के दूँगी.’

 

छुटकी

छुटकी को लगा दादी को पता नहीं कब अगला जन्म मिल जाए तो पूछ ही लिया,’ दादी तुम अगले जन्म में क्या बनना चाहोगी?
‘तू तो जानती है छुटकी मुझे आम कितने पसंद हैं, मैं तो बस आम का पेड़ बन जाऊं.’
छुटकी हँसी से लोट पलोट हो गयी.
‘ दादी, कभी तुमने आम के पेड़ को अपने आम खाते देखा है. दूसरे खाएँगे और तुम चुपचाप खड़ी देखोगी.’
‘ बात तो तेरी सही है छुटकी. तो मैं फिर पंछी बनूँगी और उड़ उड़ कर सब पेड़ों के आम खाऊंगी.’
‘ एक चोंच यहाँ मरोगी, एक चोंच वहाँ मरोगी दादी, इससे अच्छा आदमी ही बनो ना और खूब छक कर आम खाओ.’
‘ नहीं रे छुटकी, बहुत झंझट है . कभी चुरा के खाओ, कभी महँगे महेंगे ख़रीदो. ऊपर से कभी पेट खराब.. तो कभी बीपी..डाइयबिटीस.. नही रे. मैं ऐसा करती हूँ आज रात सपना लेके देखती हूँ फिर कल तुझे बताऊंगी.’
दूसरे दिन छुटकी ने फिर पूछा, ‘दादी क्या रहा?’
‘रानी’ दादी बोली.
‘तो तुम रानी बनोगी?’ छुटकी खुशी से उछल पड़ी.
‘ नहीं रे, बात तो सुन. मुझे कल सपना आया. मैं एक बहुत बड़े महल की रानी हूँ. खूबसूरत बड़ा सा महल. नौकर चाकर, फल, मिठाइयाँ. सब कुछ था और मैं गद्दी पर बैठी थी. सब नये लोग थे. राजा की गद्दी खाली थी. मैं घबरा गयी. तेरे दादाजी की जगह राजा कोई ओर हुआ तो? मैं डर गयी छुटकी. हे भगवान, ऐसा मत करना. इतनी देर में तू दौड़ती चिल्लाती आई.
मेरी दादी रानी बन गयी. लोग तुझे रोक रहे थे. मैं इशारा करती रही , ‘ छुटकी चुप कर’. पर तू है कि गद्दी की ओर भाग रही थी. पास आई तो मैने तेरे कान में कहा,’ छुटकीचुप कर, अगर लोगों को पता चल गया तो अपनी खिल्ली उड़ जाएगी. ऐसा करते हैं अंधेरा होते ही अपन दोनों चुपचाप यहाँ से निकल जाएगे.’
चुटकी गौर से सुन रही थी.
‘जब रात को हम दोनो दबे पाँव महल से निकल रहे थे तो एक ज़ोर से आवाज़ आई, ‘ कौन है !’
मेरी तो डर से घिग्गी बध गयी.’
‘फिर दादी.’ चुटकी ने उत्सुकता से पुचछा.
‘ फिर मेरी आँख खुल गयी
छुटकी ने उदास होकर पूछा, ‘तो तुम रानी भी नही बनोगी?’
‘नहीं रे पगली, जिन सपनों में अपने नहीं हों वे सपने बहुत डरावने होते हैं’
‘तो फिर?’
‘ मैं तो अगले जन्म में दादी ही बनूँगी.’
चुटकी ने दादी की गोद में सर रख दिया और ज़ोर से दादी की कमर पकड़ ली.