सिमरन

तस्वीर देखते ही उसे लगा यह सिमरन ही है. पैंतीस साल हो गये, थुथला गयी है पर आज भी आँखों में वही दो तारे चमक रहे हैं और होठों पर वही अधखिली मुस्कान है. एक दिन भी ऐसा नहीं गया अनुभव शर्मा ने सिमरन को एक बार मन में नहीं उतारा हो. यह एकतरफ़ा प्यार साला है ही ऐसा बचकाना खेल. कुछ नहीं मिलता बस जीवन भर के लिए एक तस्वीर मन में उतर जाती है. कभी कभार नेट पर उसको ढूंड लेता था, आज मिल गयी. साथ में उसका तोंदू पति खड़ा था – प्रो. गुरमीत सिंह, ई- मेल- gurmeetsingh58@gmail.com , यानि १९५८ में अवतरण हुआ है सरदार जी का, बस मेरे आगे पीछे ही.
गुरमीत सिंह की तोंद देखकर गोपाल बिष्ट की थियरी याद आ गयी- ‘हर तोंदू को खूबसूरत लड़की मिलती है, इसमें तोंदू का नहीं, भाई जी, लड़की का कमाल होता है. लड़की को पता होता हर तोंदू को पैसा खूब कमाना आता है और वो कभी शॉपिंग लिए साथ नही जाएगा. और क्या चाहिए.’
‘मगर यहाँ तो लगता है प्रो. गुरमीत सिंह की तोंद पैसे गिनने से नहीं बल्कि केमिस्ट्री लॅब में बैठने से निकली है.
क्या मिला है मेरा तिरस्कार करके आज उसे बताने का वक़्त आ गया है.
‘ क्या हो तुम? एक गँवार, पढ़ाई में फिसेडी, पूरे हफ्ते एक पॅंट-कमीज़ में कॉलेज आते हो.’
फिर भी मेरा चकवपन नहीं गया तो बात लड़ाई झगड़े और पोलीस तक पहुँच गयी. मैं कॉलेज से बाहर, ज़िंदगी बेकार.
एक मेल लिखता हूँ उसको -” सिमरन आज मैं जो कुछ भी हूँ तुम्हारी वज़ह से हूँ. तुम्हें याद होगा, 1979 के एल पी कॉलेज रेवारी. थॅंक यू सो मच. दर बदर होकर यहाँ तक पहुँचने की प्रेरणा मुझे तुमने दी, सिर्फ़ तुमने.” सब कुछ विस्तार से लिखता हूँ. मेरा नाम और शोहरत तो उस से छिपी नहीं होगी.
तोंदू सरदार को भी पढ़ने दो.
कई दिन जवाब नहीं आया. पर आख़िर एक दिन एक मेल आई.
” डियर अनुभव शर्मा, आपकी ज़िंदगी की कहानी बहुत दर्द भरी है और रोचक भी. लेकिन सॉरी, मैं वो सिमरन नहीं हूँ. मेरी संवेदना आपके साथ है. आल द बेस्ट.”
यह क्या हुआ? यह सिमरन नहीं है.
‘ PS ‘ में लिखा था- ‘ मेरी सलाह मानिए मत ढूंढीए अपनी सिमरन को. अगर मिल गयी तो आप का प्यार ओछा हो जाएगा’
हो ना हो, यह सिमरन ही है. .

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s