नाक

उधर दिल्ली में हमारे तरक्कीपसंद चचा ने चमड़ा व्यापारी की लड़की से शादी की थी और इधर सीहोर में पूरे बामनवाडा की नाक कट गयी थी. मुझे याद है रोज़ मजमा लगता था. पता लगा था लड़की विदेश में पढ़ी है और ग़ज़ब की खूबसूरत है.
मुच्छड़ बाबा का कहना था,” ज़र या जोरू की लालसा ही इंसान को ले के डूबती है. ” गोबिंद चचा को दो खजाने एक साथ हाथ लगे थे, तो संस्कारों पे तो झाड़ू फिरना ही था. कमली ताई नसवार ठूंस कर सब को याद दिलाती थी कि,” पैसा तो हाथ का मैल है, पर नाक कट गई तो समझ लो कुछ नहीं बचता है..”
सारा गाँव बोलता था, ‘ गोबिंद ने भी ब्राह्मणों की क्या, पूरे गाँव की नाक कटवा दी.’ खानदान का नाम डुबाने का यह सुखद संताप रोज़ दो घंटे चलता था. हम भी सोचते थे कभी सीहोर से निकले तो हमें भी ऐसे नाक कटवाने के अवसर मिलेंगे.
गोबिंद चचा कभी गाँव वापस नहीं लौटे. हमें कभी कभार दिल्ली ज़रूर जाना पड़ा. बस में से मेट्रो शूज़ का इश्तिहार जब भी दिखा हमने साथ की सीट वाले को तुरंत बताया, ” यह हमारे चचा का है.” साथ में यह कहना भी ज़रूरी समझा, “ब्राह्मण हैं हम और हमने चचा को जात बाहर कर दिया है..”
पिछले हफ्ते गोबिंद भारद्वाज का मुख्यमंत्री के साथ नारनौल में कार्यक्रम था. सरकार के साथ मिलकर नौकरी के नये अवसर पैदा कर रहे हैं गोबिंद चचा. आधे से ज़्यादा सीहोर गया, बामनों का दिल तो था पर कटी नाक आड़े आ गयी.
इमरती अपने लड़के को कह रही थी, ‘ तू जल्दी निकल जाना घर से कल. पहचान तो लेगा ना. अख़बार में फोटो है साथ ले जा. सीधा पैरों में धोक खाना. बोलना दादा मैं सीहोर से फलाने ब्राह्मण का लड़का हूँ. दसवी पास कर रखी है.”
रात को लोग वापस आए तो सब के मुँह पर एक ही बात थी, ” भई, गोबिंद भाई ने सीहोर के ब्राह्मणों की क्या, पूरे गाँव की नाक ऊँची कर दी”
चंदगी अपने फार्मूले से अंदाज़ा लगा के सब को बता रहा था कि जब आज ऐसी है तो बीस साल पहले गोबिंद भारद्वाज की मेडम क्या चीज़ होगी.
हम दाँत कुचरते सोच रहे थे, ‘ क्या अचार डालेंगे इस नाक का. सारी ज़िंदगी साला ना तो कटवाने का कोई मौका मिला, ना ऊँची ही हुई .’

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s